एक अजीब दास्तान है

Dur Huyi Mujhse Itana Jitni Ummeed Thi Karib Aane Ki
एक अजीब दास्तान है मेरे अफसाने की;
मैने पल पल कोशिश की उसके पास जाने की;
किस्मत थी मेरी या साजिश थी ज़माने की;
दूर हुई मुझसे इतना जितनी उमीद थी करीब आने की !!


Ek Ajib Dastan Hai Mere Afsane Ki;
Maine Pal Pal Koshis Ki Uske Pass Jaane Ki;
Kismat Thi Meri Ya Sajish Thi Jamane Ki;
Dur Huyi Mujhse Itana Jitni Ummeed Thi Karib Aane Ki !!

अगले ही मोड़ पे

Ki Agale Hi Mor Par Khushiyo Ka Sahar Hoga
दूर तक तन्हाई का सफर हैं;
न कोई साथी न हमसफर हैं;
चलते हैं दिल के सहारे ये सोच कर;
की अगले ही मोड़ पे खुशियों का सहर हैं !!


Dur Tak Tanhai Ka Safar Hai;
Na Koi Sathi Na Hamsafar Hai;
Chalte Hain Dil Ke Sahare Ye Soch Kar;
Ki Agale Hi Mor Par Khushiyo Ka Sahar Hoga !!