हसीनो से कफ़न अच्छा है

In Haseena Se To Kafan Achha Hai
इन हसीनो से तो कफ़न अच्छा है;
जो मरते दम तक साथ जाता है;
ये तो जिंदा लोगो से मुह मोड़ लेती हैं;
कफ़न तो मुर्दों से भी लिपट जाता है !!


In Haseena Se To Kafan Achha Hai;
Jo Marte Dam Tak Saath Jata Hai;
Ye To Jinda Logo Se Muh Mor Leti Hai;
Kafan To Murdon Se Bhi Lipat Jata Hai !!

कब्र के सन्नाटे में

Kisi Ne Phool Rakh Kar Aansu Ki Do Bund Bahayi
कब्र के सन्नाटे में से एक आवाज़ आयी;
किसी ने फूल रख के आंसूं की दो बूंद बहायी;
जब तक था जिंदा तब तक ठोकर खायी;
अब सो रहा हूं तो उसको मेरी याद आयी !!


Kabr Ke Sannate Me Se Ek Aawaj Aayi;
Kisi Ne Phool Rakh Kar Aansu Ki Do Bund Bahayi;
Jab Tak Tha Jinda Tab Tak Thoka Khayi;
Ab So Raha Hu To Usko Meri Yaad Aayi !!

मेरी कबर से जा रहा है कोई

Maut Ke Baad Yaad Aa Raha Hai Koi
मौत के बाद याद आ रहा है कोई;
मिट्ठी मेरी कबर से उठा रहा है कोई;
या खुदा दो पल की मोहल्लत और दे दे;
उदास मेरी कबर से जा रहा है कोई !!


Maut Ke Baad Yaad Aa Raha Hai Koi;
Mitti Meri Kabar Se Utha Raha hai Koi;
Ya Khuda Do Pal Ki Maholat Aur De De;
Udas Meri Kabar Se Ja Raha Hai Koi !!

दो गज ज़मीन बाकी है

Tumhare Naam Ki Do Ghoont Sharaab Baki Hai
हो चुकी मुलाकात अभी सलाम बाकी है;
तुम्हारे नाम की दो घूंटशराबबाकी है;
तुमको मुबारक हो खुशियों सम्याना;
मेरे नसीब में अभी दो गज ज़मीन बाकी है !!


Ho Chuki Mulakaat Abhi Salaam Baaki Hai;
Tumhare Naam Ki Do Ghoont Sharaab Baki Hai;
Tumko Mubarak Ho Khushiyoon Ka Shamyaana;
Mere Naseeb Me Abhi Do Gaz Zameen Baaki Hai !!

बार-बार कफ़न उठाया नहीं जाता

Kitna Dard Hai Dil Me Dikhaya Nahi Jata
कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता;
गंभीर है किस्सा सुनाया नहीं जाता;
एक बार जी भर के देख लो इस चहेरे को;
क्योंकि बार-बार कफ़न उठाया नहीं जाता !!


Kitna Dard Hai Dil Me Dikhaya Nahi Jata;
Gambhir Hai Kissa Sunaya Nahi Jata;
Ek Baar Jee Bhar Ke Dekh Le Is Chehare Ko;
Kyo Ki Baar Baar Kafan Uthaya Nahi Jata !!

मर के भी छुपाने होंगे गम

Dharti Ke Gam Chhupane Ke Liye Gagan Hota Hai
धरती के गम छुपाने के लिए गगन होता है;
दिल के गम छुपाने के लिए बदन होता है;
मर के भी छुपाने होंगे गम शायद;
इसलिए हर लाश पर कफ़न होता है।


Dharti Ke Gam Chhupane Ke Liye Gagan Hota Hai;
Dil Ke Gam Chhupane Ke Liye Badan Hota Hai ;
Mar Ke Bhi Chupane Honge Gam Shayad;
Is Liye Lash Par Kafan Hota Hai !!

पर मरने का तो मजा ही तब है


कभी दूर जा के रोये कभी पास आके रोये;
हमें रुलाने वाले हमें रुला के रोये;
मरने को तो मरते हैं सभी यारों;
पर मरने का तो मजा ही तब है;
जो दुश्मन भी जनाजे पे आ के रोये !!


Kabhi Dur Ja Ke Roye Kabhi Pass Aa Ke Roye;
Hame Rulane Wale Hame Rula Ke roye;
Marne Ko To Marte Hain Sabhi Yaaron;
Par Marne Ke To Maja Hi Tab Hai;
Jo Dushman Bhi Janaje Par Roye !!

मेरी लाश से कोई सवाल मत करना

Meri Barbadi Par Tu Koi Malal Mat Karna
मेरी बर्बादी पर तू कोई मलाल ना करना;
भूल जाना मेरा ख्याल ना करना;
हम तेरी ख़ुशी के लिए कफ़न ओढ़ लेंगे;
पर तुम मेरी लाश से कोई सवाल मत करना !!


Meri Barbadi Par Tu Koi Malal Mat Karna;
Bhul Jana Mera Khayal Mat Karna;
Ham Teri Khushi Ke Liye Kafan Odh Lenge;
Par Tum Meri Lash Se Koi Shawal Mat Karna !!

महबूब की डोली देखने अर्थी आई

Ek Janaja Aur Ek Baraat Takra Gaye
एक जनाजा और एक बारात टकरा गए;
उनको देखने वाले भी चकरा गए;
ऊपर से आवाज आई ये कैसी विदाई है;
महबूब की डोली देखने साजन कि अर्थी भी आई है !!


Ek Janaja Aur Ek Baraat Takra Gaye;
Unko Dekhne Wale Bhi Chakra Gaye;
Upar Se Aawaj Aayi Ye Kaisi Vidayi Hai;
Mahboob Ki Doli Dekhne Sajan Ki Arthi Bhi Aayi Hai !!

कुछ अरमान जा रहे हैं

Inshan Ke Kandhe Par Inshan Ja Rahe Hai
इंसानों के कंधे पर इंसान जा रहे हैं;,
कफ़न में लिपट कर कुछ अरमान जा रहे हैं;,
जिन्हें मिली मोहब्बत में बेवफ़ाई,
वफ़ा की तलाश में वो कब्रिस्तान जा रहे हैं !!


Inshan Ke Kandhe Par Inshan Ja Rahe Hai,
Kafan Me Lipat Kar Kuchh Arman Jaa Rahe Hai,
Jinhe Mili Mahobat Me Bewafai,
Waha Ki Talash Me Wo Kabristan Ja Rahe Hain !!