किस्मत में नही है

Us Jaise Moti Pure Samunder Me Nahi Hai
उस जैसा मोती पूरे समंद्र में नही है;
वो चीज़ माँग रहा हूँ जो मुक़्दर मे नही है;
किस्मत का लिखा तो मिल जाएगा मेरे ख़ुदा;
वो चीज़ अदा कर जो किस्मत में नही है !!


Us Jaise Moti Pure Samunder Me Nahi Hai;
Wo Chij Mang Raha Hu Jo Mukaddar Me Nahi;
Kishmat Ka Likha To Mil Jayega Mere Khuda;
Wo Chij Adda Kar Jo Kishmat Me Likha Hi Nahi !!

अपने ज़ख्म नोचता रहा

Suna Tha Wo Mere Dard Me Bhi Chhupa Hai Kah
मैं इसे किस्मत कहूँ या बदकिस्मती अपनी;
तुझे पाने के बाद भी तुझे खोजता रहा;
सुना था वो मेरे दर्द मे ही छुपा है कहीं;
उसे ढूँढने को मैं अपने ज़ख्म नोचता रहा !!


Mai Ise Kismat Kahu Ya Badkismati Apni;
Tujhe Pane Ke Baad Bhi Tujhe Khojta Raha;
Suna Tha Wo Mere Dard Me Bhi Chhupa Hai Kahi;
Use Dhundhne Ko Mai Apne Jakham Nochta Raha !!

हमने वफ़ा देनी चाही

Ham Khud Bewafa Ke Naam Se Badnaam Hain
वफ़ा के नाम से वो अनजान थे;
किसी की बेवफाई से शायद परेशान थे;
हमने वफ़ा देनी चाही तो पता चला;
हम खुद बेवफा के नाम से बदनाम थे !!


Wafa Ke Naam Se Wo Anjan The;
Kisi Ki Bewafai Se Shayad Pareshan The;
Hamne Wafa Deni Chahi To Pata Chala;
Ham Khud Bewafa Ke Naam Se Badnaam Hain !!

नसीब की दास्तान

Kahti Hai Ye Duniya Hame Khush Nashib
दिल में है जो दर्द वो किसे बताएं;
हँसते हुए ज़ख्म किसे दिखाएँ;
कहती है ये दुनिया हमे खुशनसीब;
मगर नसीब की दास्तान किसे सुनाएँ !!


Dil Me Jo Dard Hai Wo Kise Bataye;
Haste Huye Jakham Kise Dikhaye;
Kahti Hai Ye Duniya Hame Khush Nashib;
Magar Nashib Ki Dastan Kise Sunaye !!