बुलबुलों की तरह है दोस्ती

Pani Ke bulbulo Ki Tarah Hai Hamari Dosti
मेरी दोस्ती का हिसाब जो लगाओगे
तो मेरी दोस्ती को बेहिसाब पाओगे,
पानी के बुलबुलों की तरह है हमारी दोस्ती,
अगर जरा सी ठेस पहुँची तो ढूंढ़ते रह जाओगे ||


Meri Dosti Ka Hisab Jo Lagaoge;
To Meri Dosti Ko Behisab Paoge;
Pani Ke bulbulo Ki Tarah Hai Hamari Dosti;
Jara Si Thens Pahuchi To Dhundhte Rah Jaoge !!

फिर भी जिन्दगी भर साथ देते हैं दोस्त

Kyun Mushkilo Me Saath dete Hain Dost
क्युँ मुश्किलों में साथ देते हैं दोस्त,
क्युँ गम को बांट लेते है दोस्त,
ना रिश्ता खून का ना रिवाज से बंधा,
फिर भी जिन्दगी भर साथ देते हैं दोस्त !!


Kyun Mushkilo Me Saath dete Hain Dost,
Kyun Gam Ko Baant Lete Hain Dost,
Na Rista Khun Ka Na Riwaj Se Bandha,
Fir Bhi Zindagi Bhar Sath Dete Han Dost !!

दोस्ती जरा सी नादान होती है

Dosti Har Chehare Ki Mithi Mushkan Hoti Hai
दोस्ती हर चहरे की मीठी मुस्कान होती है,
दोस्ती ही सुख दुख की पहचान होती है,
रूठ भी गऐ हम तो दिल पर मत लेना,
क्योकि दोस्ती जरा सी नादान होती है !!


Dosti Har Chehare Ki Mithi Mushkan Hoti Hai,
Dosti Har Sukh-Dukh Ki Pehachan Hoti Hai,
Ruth Gaye Ham To Dil Par Mat Lena,
Kyonki Dosti Jara Si Nadan Hoti Hai !!

फर्क सिर्फ इतना है

Kuchh Jakha Dete Hai To Kuchh Zakham Bharte Hain
सभी इन्सान है मगर फर्क सिर्फ इतना है,
कुछ जख्म देते है तो कुछ जख्म भरते है,
हमसफर सभी है मगर फर्क सिर्फ इतना है,
कुछ साथ चलते है तो कुछ छोड जाते है,
प्यार सभी करते है मगर फर्क सिर्फ इतना है,
कुछ जान देते है तो कुछ जान लेते है,
दोस्ती सभी करते है मगर फर्क सिर्फ इतना है,
कुछ दोस्ती निभाते है तो कुछ आजमाते है !!


Sabhi Insan Hain Magar Fark Sirf Itna Hai,
Kuchh Jakha Dete Hai To Kuchh Zakham Bharte Hain,
Hamsafar Sabhi Hain Magar Fark Sirf Itna Hai,
Kuchh Saath Chalte Hain To Kuchh Chhod Jaate Hain,
Pyar Sabhi Karte Hain Magar Fark Sirf Itna Hai,
Kuchh Jaan Dete Hai To Kuchh Jaan Lete Hain,
Dosti sabhi Karte Hai Magar Fark Sirf Itna Hai,
Kuchh Dosti Nibhate Hai To Kuchh Aajmate Hai !!

दोस्ती पर मेरा इश्क भी कुर्बान है

Ishq Meri Ruh To Dosti Mera Iman Hai
इश्क ओर दोस्ती मेरे दो जहान है,
इश्क मेरी रुह तो दोस्ती मेरा ईमान है,
इश्क पर तो फिदा कर दु अपनी पुरी जिंदगी,
पर दोस्ती पर मेरा इश्क भी कुर्बान है !!


Ishq Aur Dosti Mere Do Jahan Hai,
Ishq Meri Ruh To Dosti Mera Iman Hai,
Ishq Par To fida Kar Du Apni Puri Zindagi,
Par Dosti Par Mera Ishq Bhi Kurban Hai !!