दर्द का एहशास

Jab Kisi Se Mahobat Ho Aur Uske Dil Me Koi Aur Hota
टूटा हो दिल तो दुःख होता है;
करके मोहह्बत ये दिल रोता है;
दर्द का एहशास तो तब होता है…
जब किसी से मोहह्बत हो और उसके दिल में कोई और होता है !!


Tuta Ho Dil To Dukh Hota Hai;
Karke Mahobat Ye Dil Rota Hai;
Dard Ka Aihshas To Tab Hota Hai….
Jab Kisi Se Mahobat Ho Aur Uske Dil Me Koi Aur Hota Hai !!

मेरी वफ़ा ने ही तुझे बेवफा बना दिया

Aaj Achanak Teri Yaad Ne Mujhe rula Diya
आज अचानक तेरी याद ने मुझे रुला दिया;
क्या करूँ तुमने जो मुझे भुला दिया;
न करती वफ़ा न मिलती ये सज़ा;
शायद मेरी वफ़ा ने ही तुझे बेवफा बना दिया !!


Aaj Achanak Teri Yaad Ne Mujhe rula Diya;
Kya Karu Tumne Jo Mujhe Bhla Diya;
Na Karti Wafa Na Milti Ye Saja;
Shayad Meri Wafa Ne Hi Tujhe Bewafa Bana Diya !!

समुंदर में पहुँच कर फरेब किया

Samundar Ke Beech Me Pohanch Kar Fareb Kiya Usne
पल-पल उसका साथ निभाते हम;
एक इशारे पे दुनिया छोर जाते हम;
समुंदर के बीच में पहुँच कर फरेब किया उसने;
वो कहते तो किनारे पे ही डूब जाते हम !!


Pal Pal Uska Saath Nibhaate Hum;
Ek Ishare Peh Duniya Chhor Jate Hum;
Samundar Ke Beech Me Pohanch Kar Fareb Kiya Usne;
Woh Kehta To Kinare Peh Hi Doob Jate Hum !!

हम तो एक फूल ना तोड़ सके

Apno Se Rishta Tod Kar Gairo Se Jod Lete Hai
लोग अपना बना के छोड़ देते हैं;
अपनों से रिशता तोड़ कर गैरों से जोड़ लेते हैं;
हम तो एक फूल ना तोड़ सके;
ना जाने लोग दिल कैसे तोड़ देते हैं !!


Log Apna Bana Ke Ke Chhor Dete Hain;
Apno Se Rishta Tod Kar Gairo Se Jod Lete Hai;
Ham To Ek Phool Na Tod Sake;
Na Jaane Log Dil Kaise Tod Dete Hain !!

ज़ख्मों को तेरे शहर की हवा

Yeh Sans Bhi Jaise Mujh Se Khafa Ho Gaye Hai
बिछड़ के तुम से ज़िंदगी सज़ा लगती है;
यह साँस भी जैसे मुझ से ख़फ़ा लगती है;
तड़प उठता हूँ दर्द के मारे;
ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है;
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ;
मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है !!


Bichad Ke Tum Se Zindagi Saja Lagti Hai;
Yeh Sans Bhi Jaise Mujh Se Khafa Ho Gaye Hai;
Tadap Uthata Hoon Dard Ke Mare;
Zakhamo Ko Jab Tere Shahar Ki Hawa Lagti;
Agar Umeed-E-Wafa Karun To Kis Se Karu;
Mujh Ko To Meri Zindagi Bhi Bewafa Lagti Hai !!

कल मेरी थी आज किसी और की हो गई

Takdeer Ke Aainae Me Meri Tashveer Kho Gayi
तक़दीर के आईने में मेरी तस्वीर खो गई,
आज हमेशा के लिए मेरी रूह सो गई,
मोहब्बत करके क्या पाया मैंने,
वो कल मेरी थी आज किसी और की हो गई !!


Takdeer Ke Aainae Me Meri Tashveer Kho Gayi,
Aaj Hamesha Ke Liye Meri Rooh So Gayi,
Mahobat Karke Kya Paya Maine,
Wo Kal Meri Thi Aaj Kisi Aur Ki Ho Gayi !!

ना जाने क्यूँ वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये

Ek Silsile Ki Ummid Thi Jinseएक सिलसिले की उम्मीद थी जिनसे,
वही फ़ासले बनाते गये
हम तो पास आने की कोशिश में थे,
ना जाने क्यूँ वो हमसे दूरियाँ बढ़ाते गये !!


Ek Silsile Ki Ummid Thi Jinse,
Wahi Fasle Banate Gaye,
Ham To Paas Aane Ki Koshish Me The,
Na Jaane Kyu Wo Hamse Duriya Badhate Gaye !!

एक ग़ज़ल तेरे लिए ज़रूर लिखूंगा

Ek Gazal Tere Liye zaroor Likhunga
एक ग़ज़ल तेरे लिए ज़रूर लिखूंगा,
बे-हिसाब उस में तेरा कसूर लिखूंगा,
टूट गए बचपन के तेरे सारे खिलौने,
अब दिलों से खेलना तेरा दस्तूर लिखूंगा !!


Ek Gazal Tere Liye zaroor Likhunga,
Be-Hisab Usme Tera Kasur Likhunga,
Tut Gaye Bachpan Ke Tere Sare Khilaune,
Ab Dilo Se Khelna Tera Dastur Likhunga !!

उसके लबों पर मेरा नाम तो आया

Dard Hi Sahi Mere Ishq Ka Inaam To aaya
दर्द ही सही मेरे इश्क़ का इनाम तो आया,
खाली ही सही होठों तक जाम तो आया,
मैं हूँ बेवफा सबको बताया उसने,
यूँ ही सही चलो उसके लबों पर मेरा नाम तो आया !!


Dard Hi Sahi Mere Ishq Ka Inaam To aaya,
Khaali Hi Sahi Hothon Tak Jaam To Aaya,
Mai Hu Bewafa Sabko Bataya Usne,
Yu Hi Sahi Chalo Uske Labo Par Mera Naam To Aaya !!

मल्हम लगाने वाले ही जखम दे जाते हैं

Paas Aa Kar Sabhi Dur Chale Jate
पास आकर सभी दूर चले जाते हैं,
अकेले थे हम अकेले ही रह जाते हैं,
इस दिल का दर्द दिखाएँ किसे,
मल्हम लगाने वाले ही जखम दे जाते हैं !!


Paas Aa Kar Sabhi Dur Chale Jate,
Akele The Ham Akele Hi Rah Jate Hai,
Is Dil Ka Dard Dikhaya Kise,
Marham Lagane Wale Hi Zakham De Jate Hai !!