सबका मुंह तोड़ दूँ

Tum Mere Nahi Ho Phir Bhi Na Jane Kyu Dil Karta Ha

तुम मेरे नहीं हो फिर भी ना जाने क्यूँ दिल करता है,
कि उन सबका मुंह तोड़ दूँ जिससे तुम बात करते हो !!


Tum Mere Nahi Ho Phir Bhi Na Jane Kyu Dil Karta Hai,
Ki Un Sabka Muh Tor Du Jis Se Tum Baat Karte Ho !!

प्यार की बातें करता हूँ

Ham To Is Kadar Pagal Hain Tere Pyar Me
सुन पगली…
हम तो इस क़दर पागल हैं तेरे प्यार में;
जब ख़ुद से भी बातें करता हूँ;
तो तेरे और मेरे प्यार की बातें करता हूँ !!


Sun Pagli…
Ham To Is Kadar Pagal Hain Tere Pyar Me;
Jab Khud Se Se Bhi Baaten Karta Hu;
To Tere Aur Mere Pyar Ki Baaten Karta Hu !!

मेरी ही रहेगी

Lekin Teri Aankho Ko Dekh Kar Pata Chal Jata Hai
पगली‬ तू कितना भी ना ना बोल ले;
लेकिन तेरी आँखों को देखकर पता चल जाता है;
कि तू सिर्फ मेरी है और मेरी ही रहेगी !!


Pagli Tu Kitni Bhi Na Bol Le;
Lekin Teri Aankho Ko Dekh Kar Pata Chal Jata Hai;
Ki Tu Sirf Meri Hai Aur Meri Hi Rahegi !!

मोहब्बत कोई खैरात नही

Khafa Na Hona Hamse Agar Tera Naam Juba Par Aa Jaye
खफा न होना हमसे अगर तेरा नाम जुबां पर आ जाये;
इंकार हुआ तो सह लेंगे और अगर दुनिया हंसी तो कह देंगे;
कि मोहब्बत कोई चीज़ नहीं जो खैरात में मिल जाये;
चमचमाता कोई जुगनू नहीं जो हर रात में मिल जाये !!


Khafa Na Hona Hamse Agar Tera Naam Juba Par Aa Jaye;
Inkar Hua To Sah Lenge Aur Duniya Hansi To Keh Denge;
Ki Mahobat Koi Chij Nahi Jo Khairat Me Mil Jaye;
Chacha mata Koi Jugnu Nahi Jo Har Me Mil Jaye !!

साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो

Jo Na Ho Apna Use Apnane Ki Jid Na Karo
उलझी शाम को पाने की ज़िद न करो,
जो ना हो अपना उसे अपनाने की ज़िद न करो,
इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते है,
इसके साहिल पर घर बनाने की ज़िद न करो।


Ualjhi Shaam Ko Pane Ki Jid Na Karo,
Jo Na Ho Apna Use Apnane Ki Jid Na Karo,
Is Samander Me Tufan Bahut Aate Hai,
Iske Sahil par Ghar Banane ki Na Soch ||

लहरों को शांत देख कर ये न समझना

Lahro Ko Shant Dekh kar Ye Mat Samajhna Ke Samander Me Rawani Na

लहरों को शांत देख कर ये न समझना की समंदर में रवानी नहीं है,
जब भी उठेंगे तूफान बन के उठेंगे अभी उठने की ठानी नहीं है !!


Lahro Ko Shant Dekh kar Ye Mat Samajhna Ke Samander Me Rawani Nahi,
Jab Bhi Uthenge Tufan Ban Ke Uthenge Abhi Udhne Ko Thani Nahi !!

मत देख मेरे सपने

Usne Kaha Mat Mere Sapne, Mujhe Pane Ki Teri Aukat Na

उसने कहा मत देख मेरे सपने,
मुझे पाने की तेरी औकात नही,
मेंने भी हस कर कहा पगली आना हो तो आजा मेरे सपनो मे,
हकीकत मे आने की तेरी औकात नही !!


Usne Kaha Mat Mere Sapne,
Mujhe Pane Ki Teri Aukat Nahi,
Mane Bhi Hans Kar Kaha Pagli Ana Hai To Aaja Mre Sapne Me,
Hakikat Me Aane Ki Teri Aukat Nahi !!