प्यारे करना गुनाह हो जैसे

Aadmi Ka Hai aaj Kal Ye Haal-Ek sehami Si Chah Ho Jaise
आदमी का है आज कल ये हाल-एक सेहमी सी चाह हो जैसे,
आदमी का है आज कल ये हाल-एक सेहमी सी चाह हो जैसे,
और लोग यूं छूप कर प्यार करते हैं कि प्यारे करना गुनाह हो जैसे !!


Aadmi Ka Hai aaj Kal Ye Haal-Ek sehami Si Chah Ho Jaise,
Aadmi Ka Hai aaj Kal Ye Haal-Ek sehami Si Chah Ho Jaise,
Aur Log Yun Chhup Kar Pyar Karte Hai Ki Pyar Karna Gunah Ho Jaise !!

दिल उजड़ी हुयी एक ईमारत की तरह है

Dil Ujari Huyi Ek Imarat Ki Tarah Hai
दिल उजड़ी हुयी एक ईमारत की तरह है,
दिल उजड़ी हुयी एक ईमारत की तरह है,
बस दर्द तेरा इसमें अम्मन्ना की तरह है !!


Dil Ujari Huyi Ek Imarat Ki Tarah Hai,
Dil Ujari Huyi Ek Imarat Ki Tarah Hai,
Bas Dard Tera Isme Ammanna Ki Tarah Hai !!