……..इश्क़ है

Magar Sote-Sote Jagna Aur Jagte-Jagte Sona Ishq Hai
तनहाइयों मे मुस्कुराना इश्क़ है;
एक बात को सब से छुपाना इश्क़ है;
यूँ तो नींद नही आती हमें रात भर;
मगर सोते सोते जागना और जागते जागते सोना इश्क़ है!!


Tanhayi Me Muskurana Ishq Hai;
Ek Baat Ko Sab Se Chhupana Ishq Hai;
Yun To Nind Aati Hame Raat Bhar;
Magar Sote-Sote Jagna Aur Jagte-Jagte Sona Ishq Hai !!

मोहब्बत तुझसे बेसुमार कर बेठा

Ye Sab Jante Huwe Mai Mahobat Tujhse Besumar Kar Ba
बिन देखे मैं तुझसे प्यार कर बेठा;
बस यही गुनाह मैं एक बार कर बेठा;
मिलना तो तुझसे मुकदर को मंजूर न था;
ये सब जानते हुए मैं मोहब्बत तुझसे बेसुमार कर बेठा;
अगर मंजूर हुआ मुकदर को तो फूल फिर खिलेंगे;
बिछड़े हुए दो दिल फिर मिलेंगे;
अगर मिल न पाये इस जनम में तो काया हुआ;
ये आशिक़ी है फिर मिलेंगे किसी और जानम में !!


Bin Dekhe Mai Tujhse Pyar Kar Baitha;
Bas Yahi Gunah Mai Ek Baar Kar Baitha;
Milna To Tujhse Mukadar Ko Manjur Na Tha;
Ye Sab Jante Huwe Mai Mahobat Tujhse Besumar Kar Baitha;
Agar Manjur huwa Mukaddar Ko To Ful Fir Khilenge ;
Bichhde Huwe Do Dil Fir Milenge;
Agar Mil Na Paye Is Janam Me To Kya Huwa;
Ye Aashiqi Hai Fir Milenge Kisi Aur Janam Me !!

हद्द से गुज़र जाऊं मैं

Agar Tera Khayal Na Sochu Toh Mar Jaaun Mainकहा ये किसने कि फूलों से दिल लगाऊं मैं;
अगर तेरा ख्याल ना सोचूं तो मर जाऊं मैं;
माँग ना मुझसे तू हिसाब मेरी मोहब्बत का;
आ जाऊं इम्तिहान पर तो हद्द से गुज़र जाऊं मैं !!


Kaha Yeh Kisne Ki Phoolo Se Dil Lagaun Main;
Agar Tera Khayal Na Sochu Toh Mar Jaaun Main;
Maang Na Mujhse Tu Hisaab Meri Mohabbat Ka;
Aa Jaaun Imtihaan Par Toh Had Se Gujar Jaaun Main !!

हज़ार रातों में वो एक

Nigah Utha Kar Jab Dekhte Hain Wo Meri Taraf
सकून मिलता है जब उनसे बात होती है;
हज़ार रातों में वो एक रात होती है;
निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ;
मेरे लिए वो ही पल पूरी कायनात होती है !!


Sukun Milta Hai Jab Unse Baat Hoti Hai;
Hazar Raat Me Wo Ek Raat Hoti Hai;
Nigah Utha Kar Jab Dekhte Hain Wo Meri Taraf;
Mere Liye Wo Hi Pal Puri Kayanat Hoti Hai !!

तुझसे हमें प्यार बहुत है।

Dhokha Na Dena Ki Tujhpe Aitbaar Bahut Hai
धोखा ना देना कि तुझपे ऐतबार बहुत है,
ये दिल तेरी चाहत का तलबगार बहुत है,
तेरी सूरत ना दिखे तो दिखाई कुछ नहीं देता,
हम क्या करें कि तुझसे हमें प्यार बहुत है !!


Dhokha Na Dena Ki Tujhpe Aitbaar Bahut Hai;
Ye Dil Teri Chahat Ka Talabgar Bahut Hai;
Teri Surat Na Dekhe To Dikhayi Kuchh Nahi Deta;
Ham Kya Kare Ki Tujhse Pyar Hame Bahut Hai !!

घर देर तक महकता रहा


छू गया जब कभी ख्याल तेरा,
दिल मेरा देर तक धड़कता रहा,
कल तेरा ज़िक्र छिड़ गया घर में,
और घर देर तक महकता रहा !!


Chhu Gaya Jab Kabhi Khayal Tera;
Dil Mera Der Tak Dhadakta Raha;
Kal Tera Jikra Chhid Gaya Ghar Me;
Aur Gher Der Tak Mahkta Raha !!

वो उदास था

Mujh Se Bichar Kar Mujh Ko Rula Kar Udaas Tha
मुझसे बिछर कर मुझको रुला कर उदास था;
मेरी तरह वो खुद को जला कर उदास था;
ऐसे अजीब दर्द के पहरे थे चारो ओर;
अब के वो मेरे शरह में आ कर उदास था !!


Mujh Se Bichar Kar Mujh Ko Rula Kar Udaas Tha;
Meri Tarah Wo Khud Ko Jala Kar Udaas Tha;
Aise Ajeeb Dard Ke Pehre The Chaaro Or;
Ab Ke Wo Mere Sheher Me Aa Kar Udaas Tha !!

मुमकिन नहीं

Aag Hamne Hi Lagayi Thi Khud Ko Jalane Ke Liye
आंसूं पीते हैं प्यास बुझाने के लिये;
आग हमने ही लगायी थी खुद को जलाने के लिये;
इस जनम में तो मुमकिन नहीं;
और जनम लगेंगे आपको भुलाने के लिये !!


Aansu Pite Hain Pyas Bujhane Ke Liye;
Aag Hamne Hi Lagayi Thi Khud Ko Jalane Ke Liye;
Is Janm Me To Namkeen Nahi;
Aur Janm Lagenge Aapko Bhulane Ke Liye !!

झुकी नज़रों से इनकार कर आए

Majburi Thi Jo Jhuki Najaron Se Inkar Kar Aaye
आज हम भी एक नेक काम कर आए;
दिल की वसीयत किसी के नाम कर आए;
प्यार हैं उनसे ये जानते हैं वो;
मज़बूरी थी जो झुकी नज़रों से इनकार कर आए !!


Aaj Ham Bhi Ek Nek Kaam Kar Aaye;
Dil Ki Washihat Kisi Ke Naam Kar Aaye;
Pyar Hai Unse Ye Jante Hain Wo;
Majburi Thi Jo Jhuki Najaron Se Inkar Kar Aaye !!

टूट जाएँगे पायल की तरह

Bhatakte Rahe Badal Ki Tarah
भटकते रहे हैं बादल की तरह;
सीने से लगा लो आँचल की तरह;
गम के रास्ते पर ना छोड़ना अकेले;
वरना टूट जाएँगे पायल की तरह !!


Bhatakte Rahe Badal Ki Tarah;
Sine Se Laga Lo Aanchal Ki Tarh;
Gam Ke Raste Par Na Chodna Akele;
Warna Tut Jayenge Payal Ki Tarah !!